Sunday, June 16, 2024
HomeBhajans Lyricsमाँ का बुलावा आया है Maa Ka Bulawa Aaya Hai - Jubin...

माँ का बुलावा आया है Maa Ka Bulawa Aaya Hai – Jubin Nautiyal

माँ का बुलावा आया है Maa Ka Bulawa Aaya Hai Lyrics in Hindi – Jubin Nautiyal

Maa Ka Bulawa Aaya Hai Lyrics in Hindi is a brand new song sung byJubin Nautiyal. The song lyrics are written by Manoj Muntashir. The music is given by Payal Dev. The video song features Jubin Nautiyal.

Maa Ka Bulawa Aaya Hai Song Credits

Song Maa Ka Bulawa Aaya
Singer Jubin Nautiyal
Lyrics Manoj Muntashir
Music Payal Dev
Label T-Series

 

ऊँचे ऊँचे पर्वत गाए
हमको अपने पास बुलाये
किस्मत वाले होते हैं वो
मां जिनको आवाज लगायें

सपने में जगदम्बा ने
अपना द्वार दिखाया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

सपने में जगदम्बा ने
अपना द्वार दिखाया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

मेरी आँखों में जो देखी
तूने पीर थोड़ी सी भी
हंसते हंसते माई तेरे
नैना भरे हैं

मेरी आँखों में जो देखी
तूने पीर थोड़ी सी भी
हंसते हंसते माई तेरे
नैना भरे हैं

तेरे जैसा कौन जग में
जब चुभे हैं कांटे पग में

मुझसे पहले माई
तेरे आंसू गिरे हैं
हां बेटा मां को भूल भी जाए
मां ने कहां भुलाया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

सपने में जगदम्बा ने
अपना द्वार दिखाया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

पौडी पौडी चढ़ते जाओ
कहते जाओ जय माता दी
पास बहुत है माँ का मंदिर
सब दोहराओ जय माता दी

रुकने पाये ना जयकारा
सारे गाओ जय माता दी
सारे गाओ जय माता दी

पाँव के छले बोल रहे हैं
माँ के सिवा सब माया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

सपने में जगदम्बा ने
अपना द्वार दिखाया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

सपने में जगदम्बा ने
अपना द्वार दिखाया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

सपने में जगदम्बा ने
अपना द्वार दिखाया है
आज तो रुकना मुश्किल है
माँ का बुलावा आया है

Written by : Manoj Muntashir

माँ का बुलावा आया है Maa Ka Bulawa Aaya Hai Lyrics  – Jubin Nautiyal

Oonche Oonche Parbat Gaaye
Humko Apne Paas Bulaye
Kismat Wale Hote Hain Woh
Maa Jinko Aawaz Lagaye

Sapne Mein Jagdamba Ne
Apna Dwar Dikhaya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Sapne Mein Jagdamba Ne
Apna Dwar Dikhaya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Meri Aankhon Mein Jo Dekhi
Toone Peer Thodi Si Bhi
Hanste Hanste Maayi Tere
Naina Bhare Hain

Meri Aankhon Mein Jo Dekhi
Toone Peer Thodi Si Bhi
Hanste Hanste Maayi Tere
Naina Bhare Hain

Tere Jaisa Kaunj Jag Mein
Jab Chubhe Hain Kaante Pag Mein

Mujhse Pehle Maayi
Tere Aansu Gire Hain
Haan Beta Maa Ko Bhool Bhi Jaaye
Maa Ne Kahan Bhulaya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Sapne Mein Jagdamba Ne
Apna Dwar Dikhaya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Paudi Paudi Chadhte Jao
Kehte Jao Jai Mata Di
Paas Bohat Hai Maa Ka Mandir
Sab Dohrao Jai Mata Di

Rukne Paaye Na Jaikara
Saare Gao Jai Mata Di
Saare Gao Jai Mata Di

Paanv Ke Chhale Bol Rahe Hain
Maa Ke Siwa Sab Maya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Sapne Mein Jagdamba Ne
Apna Dwar Dikhaya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Sapne Mein Jagdamba Ne
Apna Dwar Dikhaya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Sapne Mein Jagdamba Ne
Apna Dwar Dikhaya Hai
Aaj To Rukna Mushkil Hai
Maa Ka Bulawa Aaya Hai

Written by : Manoj Muntashir

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments